Movie Reviews

रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की WAR फिल्म का सबसे मजेदार रिव्यू

Written by  on October 3, 2019

रवि पारीक
2 अक्टूबर यानी गांधी जयंती के दिन WAR फिल्म रिलीज हुई। फिल्म के ट्रेलर में रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ का भरपूर ऐक्शन देखकर हमने भी देख डाली मूवी वॉर और इसके लिए दिन मुकर्रर हुआ बुधवार। अगर आपने पहले ही दिन मूवी देख ली है तो अब हम आपकी कोई मदद नहीं कर सकते हैं। टिकट बुक नहीं कराया है तो दुनिया में और भी काम हैं, वे कर लीजिए। अगर टिकट करा लिया है लेकिन देखी नहीं है तो 4 घंटे पहले टिकट कैंसल कराने पर 70% रिफंड और जीवन भर का गिल्ट वापस मिल सकता है। फिल्म वॉर देखने जा रहे हैं तो पहले ये पॉइंट्स पढ़ लीजिए फिर फैसला आपका। करते हैं शुरू वॉर का फनी लेकिन एकदम असली रिव्यू…
1- फिल्म में खालिद बने टाइगर श्रॉफ ने बॉलिवुड की एक बड़ी कमी को पूरा कर दिया है। टाइगर में काफी पॉटेंशियल है। ऐक्टिंग करने का नहीं बल्कि बॉलिवुड में आइटम बॉय बनने का। टाइगर श्रॉफ की ऐक्टिंग देखकर आप यही कहेंगे कि अब समय आ गया है कि टाइगर छोड़ दें… ऐक्टिंग नहीं बल्कि सांस लेना।

2- जब-जब टाइगर श्रॉफ डायलॉग डिलिवरी करते हैं। आप सीट से उठ जाते हैं। ताली या सीटी बजाने के लिए नहीं बल्कि अपने से आगे वाले शख्स को नीचे बैठाने के लिए जो पहले ही टाइगर को भला-बुरा कहने के लिए सीट से खड़ा हो चुका है।

3- वॉर मूवी देखते हुए आप फिल्म में एकदम घुस जाते हैं। यह फिल्म आपको वॉर का रियल एक्स्पीरियंस देती है। फिल्म देखते हुए आपके दिल और दिमाग में भी एक वॉर चलती है कि मूवी पूरी देखी जाए या फिर बीच में ही छोड़ दी जाए।

4- फिल्म का म्यूजिक एकदम धांसू है। यही फिल्म की खूबी है। फिल्म के बीच में आप एकदम गला फाड़कर डायरेक्टर को गाली देंगे तो भी आपके पास वाले बैठे शख्स को पता नहीं चलेगा।

5- फिल्म का सबसे बड़ा अडवांटेज है कि पूरी फिल्म के दौरान आप फिल्म को प्रेडिक्ट नहीं कर पाएंगे। यहां तक कि आप खुद भी फिल्म के पहले हाफ में सोचते हैं कि क्या हो रहा है और दूसरे हाफ में सोचेंगे कि क्यों हो रहा है?

6- वाणी कपूर आती हैं और चली जाती हैं। 3 घंटे की फिल्म में उनका 10 मिनट का रोल है। इन 10 मिनट में वह थोड़ी देर इमोशनल भी होती हैं। उन्हें इमोशनल होता देख आपको लगता है कि उन्हें 10 मिनट भी ज्यादा दे दिए गए।

7- रितिक की ऑन स्क्रीन पर्जेंस एकदम अच्छी है। हर बार स्क्रीन पर एंट्री के मामले में रितिक बेस्ट हैं। यहां तक कि हर मामले में रितिक ने टाइगर को पीछे छोड़ दिया है। चाहे बात ओवर ऐक्टिंग करने की ही क्यों ना हो।

8- यह फिल्म एकदम देशभक्ति से भरी हुई है। फिल्म शुरू होने के बाद आप एक बार तो जोश से भर जाते हैं और आपको गूजबंप होता है… और वह तब जब फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजता है। इसके अलावा आप फिल्म में सिर्फ ठंडे पड़े रहेंगे।

9- फिल्म का क्लाइमेक्स इसकी सबसे बड़ी खास बात है। अंत तक जाते-जाते आप खुश होते हैं कि फाइनली फिल्म खत्म हो रही है। तभी क्लाइमेक्स आता है और एंड में आकर आपको पता चलता है कि मूवी का दूसरा पार्ट भी आएगा तो आपको सदमा लग सकता है।

10- यह फिल्म किसी ट्रैवलर का यूट्यूब विडियो लगता है। आप गाजियाबाद में बैठकर मोरक्को, इराक, सिडनी, पुर्तगाल से लेकर आर्कटिका तक घूम आते हैं। फिल्म में एक कमी रह गई और अगर फिल्म के किसी एक सीन में ‘Some Where in Balochistan’ लिख दिया जाए तो फिल्म पूरी वेब सीरीज का मसाला है।

11- अंत में बात करें फिल्म की अच्छी बातों की तो फिल्म की सबसे अच्छी बात है कि फिल्म 2 घंटे 40 मिनट में खत्म हो जाती है। इसके अलावा अगर रेटिंग की बात करें तो फिल्म को दो स्टार मिलने चाहिए। वे उसमें पहले से हैं रितिक रोशन और टाइगर श्रॉफ। इसके अलावा यह फिल्म कोई तीसरा स्टार डिजर्व नहीं करती है।

एंड में सिर्फ इतना ही कि भइया, वॉर एक ऐसी फिल्म है कि अगर अहिंसा के पुजारी गांधी जी भी इस मूवी को देख लेते तो उनका हाथ टाइगर श्रॉफ पर उठ जाता! बिना किसी लॉजिक के ऐक्शन सीन्स इस फिल्म को नीचे की ओर ले जाते हैं। अगर ऐक्शन ही देखने हैं तो साऊथ की मूवी देख लीजिए, डांस देखना है तो हरियाणवी मूवी देख लीजिए, आइटम सॉन्ग्स देखने हैं तो भोजपुरी फिल्म देख लीजिए। आगे आप खुद समझदार हैं।

 

 

Source https://navbharattimes.indiatimes.com/jokes/funny-news/war-movie-funny-and-hindi-review-starring-tiger-shroff-and-hrithik-roshan/articleshow/71418442.cms